New Alone Shayari in Hindi | Sad Bewafa Shayari

वादा तो कर लेते है निभाना भूल जाते हैं
लगा के आग सीने में बुझाना भूल जाते हैं.

भूलना तो आदत हो गयी है लोगो की.
रुलाते है फिर मनाना भूल जाते हैं.


Wada to kar lete hai Nibhana Bhul Jate Hain
Laga k Aag Seene Me Bujhana Bhul Jate hain.

Bhulana To Aadat ho Gayi hai logo ki.
Rulate hai phir manana bhul jate hain.

laga ke aag sine me bujhana bhul jate hai
laga ke aag sine me bujhana bhul jate hai

मुझमे लाख बुराइयां है लेकिन एक खूबी भी है
मैंने कभी भी कोई रिश्ता मतलब के लिए नहीं रखा


Mujhme Lakh Buraiya Hai Lekin Ek Khubi Bhi hai
Maine Kabhi Bhi Koi Rishta Matlab ke Liye Nahi Rakha


तन्हाई भरी जिंदगी का सफर मिला,
न साथि न हमसफ़र मिला,

हम दिया जला कर छोड़ गए थे ‘एक रोशनी’ के लिए,
जब लौटे तो जलता हुआ अपना घर मिला


Tanhai Bhari jindagi ka safar mila,
na Sathi na hamsafar mila,

ham diya jala kar
chhod gaye the ‘Ek Roshani’ ke liye,
jab laute to jalta hua apna Ghar mila

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top